#मुकाम

तुम मेरी कलम केसफ़र कीएक अदद मंजिल हो… जहाँ तक मेरे लफ्ज़उस आखिरी हदतक जाएँगे … !!! हमराह जो नहीं होतो कोई ग़मभी नहीं है… सफ़र के आख़िरीमुकाम तक तुझे हीबस लिखते जाएँगे ….✍️#kavyakshra#ज़िंदगी_और_मैं

Read More #मुकाम

#FathersDay

पिताजी नाम की शख़्सियत काहमारे बचपन के ज़माने मेंगज़ब का रुआब था… कुछ पिताजी के हौसलेतो कुछ ज़िंदगी की माकूलसादगी का कमाल था… ये चंद कमाए हुए पैसों सेपूरे परिवार की ज़रूरतों कोचुटकियों में समेट लेते थे… इनके चेहरे के हाव-भाव सेहम अपने अरमानों काउतार-चढ़ाव तय कर लेते थे… हम बच्चों का झगड़ा भीपिताजी के […]

Read More #FathersDay

मन के विश्वास को सर्वोपरि रखकर हम ईश्वर के अस्तित्व को स्वीकार करते हैं! ईश्वर वह प्रकाश पुंज है जिसके स्मरण मात्र से आशा किरण प्रस्फुटित होती है ✍️ विचारोंकीगरिमा

Read More

बिखरे जवाब उलझे सवाल क्या करें पूछकरजब जवाब होते हैं बदले में सवाल दागकर✍️#काव्याक्षरा

Read More

#लेखन_कर्त्तव्य

यूँ! स्तर तो समुचित नहीं प्रत्येक ही की सोच का विचारों का मेरे सूक्ष्म आकलन कर पाए……!! पर पढ़कर जो परितुष्ट हैं मुझे यूँ अनवरत स्वयं उनको अवलोकन- समालोचन करने दीजिए…… !!! एकाकी व्यक्तित्व हैं जो मन की अभिलाषा नेह-प्रीत मनोभाव स्थिर नहीं हृदय से हैं कातर भयभीत……!! सोच के परिमाण का अनुमान हो जाए […]

Read More #लेखन_कर्त्तव्य

#कविहृदय

ये विक्षुब्धता है किसलिए किस कारण इतना क्षोभ कवि हृदय सुकोमल को तो निर्मल रहना था क्यों हुआ पाषाण कटु निर्मम! ये तो न होना था… #kavyakshra

Read More #कविहृदय

#आह्वान

मैं परमशक्ति हूँ…… मेरे आह्वान सेसृष्टि भी थम जाए!समाहित है मुझमेंपुरुष और प्रकृतिकी समरूपताएँ…. मेरे प्रमाणमेरी क्षमता कोअभिषिक्त करते हैं…. मेरी सोच सेब्रह्मांड मेंनक्षत्र चलते हैं…✍️ #काव्याक्षरा

Read More #आह्वान

#आतुर_अर्णव

अर्णव की चाह अथाह थीसीमाओं तक बस स्वयं में असंख्य कामनाएँ तल कीसमेटे हुए मन में… अद्भुत सृष्टि जीवंत किए कुछ चक्रवातों का अंत किएआतुरता उसकी प्रतीक्षा थीया त्रुटि चयन में समीक्षा की… अब मौन में संवाद हैफिर किसलिए परिवाद है क्या आकर्षण का लोभ रहा या सौंदर्य पर क्षोभ रहा… अर्णव को धरा को […]

Read More #आतुर_अर्णव

#साहस

स्वर्ण-सा निखर उठता हैवह हृदयजो पश्चात्ताप के द्वंद्व सेहोकर गुज़रता है उस निष्पाप हृदय कास्वागत हो जोसाहस से सत्य कोप्रत्यक्ष करता है… ✍️ #काव्याक्षरा#ज़िंदगी_और_मैं

Read More #साहस

#श्रद्धा

जीवन सुख-दुख का सम्मिश्रणन दुःख की कातरता मन मेंन सुख का सम्मोहन जीवन श्रद्धा का अनुमोदनकुछ ईश्वर ने प्रदत्त किए जोक्षण जीवन में अनुपम… #काव्याक्षरा

Read More #श्रद्धा