विचारों की गरिमा

हृदय की कोमल भावनाओं के साथ  जब मन का विश्वास जुड़ जाता है तो कल्पना का स्तर ऊँचा होता जाता है!
लेकिन कल्पना कितनी भी दृढ़ क्यों न हो, सत्य का प्रतिबिंब मात्र होती हैं!
सत्य कभी नहीं•••✍️
#काव्याक्षरा

Advertisement

2 thoughts on “विचारों की गरिमा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s