इंतज़ार

2 thoughts on “इंतज़ार

    1. किसी की पंक्तियों के प्रत्युत्तर में लिखी ई पंक्तियाँ है!

      इसमें ज़िंदगी की हद तक यानि मरने तक इंतज़ार करने को कहा गया है।
      इंतज़ार तभी हो सकता है जब हसरतों में जान बची हो….

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s