#ज़मीं…!

ज़मीं ज़िंदगी का
खूबसूरत आसरा है…!
जहां का बसेरा
व़क्त का मुशायरा है…!!

महकती हवाओं में
मिट्टी की खुशबू है…!
फ़िज़ां में इसकी
हरियाली की जुस्तजू है…!

आब-ओ-हवा में
बयान-ए-हकीकत है..!
ख्वाबों के तामील की
माकूल सहूलियत है…!!

ख्वाबों की उड़ान तो
आसमानों से परे है…!
खुशनसीबी है जो
हम जमीं से जुड़े हैं..!!

#काव्याक्षरा
************************

5 thoughts on “#ज़मीं…!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s